हमारा पता
10, क्वींस रोड ,राठौर नगर , वैशाली नगर , जयपुर, राजस्थान, भारत 302021

हमसे संपर्क करे
(+91) 141 2356122
(+91) 9166 300 200

psychiatrist in jaipur in hindi

साइकेट्रिस्ट (मनोचिकित्सक) इन जयपुर

डॉक्टर सातीश झूँथरा , निर्देशक , विवान हॉस्पिटल फ़ोर सेक्शूअल हेल्थ , हमारे देश के जाने माने मनोरोग विशेषज्ञ हैं 

बुक अपॉइंटमेंट्स

मनोरोग और सेक्स समस्या का गहरा सम्बंध हे- मनोरोग होने पर सेक्स समस्या और सेक्स समस्या से मनोरोग हो जाते हे। यही नहीं, इनके उपचार की कई दवाओं के साइड इफ़ेक्ट भी सेक्स समस्या उत्पन्न कर देते हे । इसलिए घर के लोगों को , स्वयं मनोरोगी एवं चिकित्सक सभी को सेक्स प्राब्लम्ज़ के बारे में सजग रहना चाहिए । ऐसा होने पर अधिकतर मामलों में सेक्स लाइफ़ को सामान्य किया जा सकता हे परंतु विशेषज्ञ चिकित्सा की आवश्यकता हो सकती हे ।

आइये कुछ मनोरोगों पर दृष्टि डालते हे-

1- अवसाद या डिप्रेशन- इसके मुख्य लक्षण हे –


कम से कम दो सप्ताह तक लगातार रहने वाला उदास मन , कमज़ोरी, किसी काम में मन न लगना , नींद की कमी , निराशा , अनचाहा पछतावा, जीवन निरर्थक लगना और कभी कभी जीवन समाप्त कर लेने के बारे में सोचना, नींद कम आना और किसी प्रकार की ख़ुशी महसूस न करना । सेक्स में रुचि कम हो जाना एवं ED की समस्या भी अक्सर हो जाती हे।


अवसाद की दवाओं जैसे SSRI वग़ैरा से भी सेक्स की इच्छा कम हो जाती हे और अनेक मामलों में वीर्य डिस्चार्ज में मुश्किल आती हे ।
इसके उपचार के लिए आवश्यक हिस्ट्री लेने के बाद अन्य सम्भावित कारणो के लिए जाँच की जाती हे। इसका उपचार काउन्सलिंग , दवाओं या कुछ व्यायाम करने से किया जा सकता हे

2- ऐंज़ाइयटी डिसॉर्डर – इसमें लगभग हर समय बेचैनी , घबराहट और आशंका रहती हे कि कुछ अप्रिय घटने वाला हे । यदि किसी को लगातार 6 महीने या अधिक समय तक ऐसा हो और कोशिश के बावजूद भी इस आशंका को क़ाबू में न लाया जा सके तो इसे ऐंज़ाइयटी डिसॉर्डर कहते हे। यदि इस तरह की परेशानी केवल सामाजिक कार्यों के समय हो जैसे किसी नए व्यक्ति से मिलने पर तो इसे सोशल ऐंज़ाइयटी डिसॉर्डर कहते हे , किसी वस्तु या परिस्थिति से परेशानी हो जैसे बहुत तंग या खुली जगह , भीड़ वाली जगह या ऊँची जगह । ऐसे में व्यक्ति ऐसी परिस्थितियों से बचने लगता हे और इनकी कल्पना मात्र से भयभीत हो जाता हे । इन लोगों में सेक्स की इच्छा कम हो सकती हे या ED । कई बार शीघ्र स्खलन की समस्या भी हो सकती हे । इसके लिए आवश्यक काउन्सलिंग और दवाओं का प्रयोग किया जाता हे।


3- ओसीडी – इसमें भी ऐंज़ाइयटी डिसॉर्डर वाले लक्षण होते हे । फ़र्क़ होता हे एक ही बात के बार बार दोहराए जाने का।